जानिए कोरोना वायरस के लक्षण, बचाव | Coronavirus Lakshan In Hindi

जानिए कोरोना वायरस के लक्षण: 

हम अपने इस लेख को लिखते समय और आपको ये बताते समय बेहद दुखद महसूस कर रहे हैं कि, इस बिमारी या संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता ही जा रहा हैं और इसके इलाज के लिए अभी तक कोई कारगर दवाई का निर्माण नहीं हो पाया हैं।

सरकारी योजना की तरफ से हमारी अपील हैं कि, कृप्या करके घर के भीतर ही रहे हैं और इस संक्रमण के किसी भी लक्षण के दिखाई देते ही तुरन्त दूसरो से दूर हो जाये और अस्पताल पहुंचे।

आपसे निवेदन हैं कि,

  1. सामाजिक दूरी अर्थात् दूसरो से दूरी बनाये और इस संक्रमण को रोकने का प्रयास करें,
  2. अस्पताल से भागिए नहीं और हो सके तो तुरन्त अस्पताल जाईए,
  3. संक्रमित हैं तो छुपिये नहीं बल्कि अस्पताल जाईए,
  4. अन्त आपकी सुरक्षा पर ही आपके चाहने वालों की सुरक्षा और देश की सुरक्षा निर्भर करती हैं।

अन्त, सरकार का सहयोग कीजिए और कोरोना से दूर रखें।

Corona Virus

आइए जानते हैं क्या हैं कोरोना के लक्षण-

कोरोना के लक्षणों का जानना हमारे लिए बेहद जरुरी हैं क्योंकि सरकार तो हमारी सुरक्षा के लिए हर संभव कदम उठा ही रही हैं पर हमें अपने स्तर पर भी तो इससे अपनी सुरक्षा के लिए कदम उठाने होंगे। कोरोना के लक्षण इस प्रकार हैं-

  1. इस वायरस से संक्रमित होने के लक्षण कम से कम 14 दिनों में उजागर होते हैं,
  2. वायरस से संक्रमित होन के पहले 5 दिनों में ’’ सूखी खांसी ’’ की शिकायत बताई जाती हैं, अमेरिकी शोधकर्ताओं के अनुसार,
  3. संक्रमित व्यक्ति को देखते ही देखते तेज बुखार चढ़ने लगता हैं औऱ उसके शरीर का तापमान लगातार बढ़ने लगता हैं,
  4. संक्रमण के पहले 5 दिनों में सांस लेने में दिक्कत का आना इसका एक प्रमुख लक्षण हैं,
  5. राष्ट्रीय स्वास्थ्य केंद्र और विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना हैं कि, इस वायरस से संक्रमित होने पर आपको बेहद बदन दर्द और जुकाम आदि की शिकायत रहती हैं,
  6. गले में खराश का होना भी कोरोना संक्रमित होने का एक लक्षण हो सकता हैं,
  7. 60 साल के बुजुर्गो के संक्रमित होने की संख्या लगातार बढ़ रही हैं।

आदि उपरोक्त ऐसे लक्षण हैं जिनकी हम और पहचान कर सकते हैं और हिदायतो के अनुसार अपनी और दूसरो की सुरक्षा को तय कर सकते हैं बस दूसरो से दूर रहकर और तुरन्त अस्पताल में भर्ती होकर।

कोरोना वायरस क्या हैं?

कोरोना वायरस क्या हैं और उसमें ऐसा क्या हैं जो पूरा अन्तर्राष्ट्रिय समुदाय उससे थर्र- थर्र कांप रहा हैं और वो क्या विशेषताएं हैं जो इस वायरस को पहले के तमाम वायरसों से अलग बनाता हैं? आइए जानते हैं।

कोरोना वायरस इतना खतरनाक हैं कि, ये ना केवल इंसानो बल्कि जानवरों को भी बीमार कर सकता हैं। यह एक RNA वायरस हैं जिसका तात्पर्य हैं कि, यह एक शरीर के भीतर कोशिकाओं मे टूट जाता हैं और उनका प्रयोग खुद को उत्पन्न करने के लिए करता हैं।

Read: कोरोना वायरस से कैसे बचें

कोरोना वायरस कितना खतरनाक हैं कि, इसकी शुरुआत ’’ सी-फुड ’’ से हुई हैं क्योंकि चीन के वुहान शहर में एक ’’ सी-फूड ’’ बाजार हैं जहां से इसकी शुरुआत हुई हैं और इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस वायरस को पहले ही आगाह कर दिया हैं क्योंकि ये वायरस जितना खतरनाक हैं उतना खतरनाक इसका संक्रमण हैं क्योंकि ये संक्रमण के देखते ही देखते एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल जाता हैं और वो दूसरा व्यक्ति भी संक्रमित हो जाता हैं।

इस वायरस के लक्षण निमोनिया की तरह हैं और इस वायरस का संबंध कोरोना वायरस के परिवार से हैं।

पेंडेमिक घोषित किया जा चुका हैं कोरोना वायरस को ?

कोरोना की संवेदनशीलता को देखते हुए इसे पेंडेमिक घोषित किया जा चुका हैं। पेंडेमिक का अर्थ हैं वो बीमारी या फिर वायरस जो किसी एक देश या क्षेत्र तक सीमित ना हो बल्कि जिसका प्रभाव पूरे विश्व में देखने को मिलता हैं पेंडेमिक कहलाता हैं।

कब और किस तरह से शुरुआत हुई इस कोरोना वायरस की?

कोरोना वायरस की शुरुआत उस दिन हुई थी जब पुरा विश्व नव वर्ष के हर्षों-उल्लास के मद में चूर था और नये साल के इंतजार के साथ-साथ कहीं ना कहीं एक नया शांति भरा, समृद्ध और विकसित विश्व का इंतजार हो रहा था अर्थात् 31 दिसम्बर,2019 ही वो तारिख हैं जिस दिन कोरोना वायरस की विधिवत् शुरुआत हुई। इस वायरस की शुरुआत चीन से हुई।

कैसे हुई शुरुआत कोरोना वायरस की?

31 दिसम्बर, 2019 को चीन में, कोरोना वायरस की शुरआत समुन्द्री जीव-जन्तुओं के माध्यम से हुआ।

कोरोना वायरस जानवरों में भी पाया जाता हैं और दक्षिणी चीन में समुन्द्र के आस-पास रहने वाले लोगों को सबसे पहले कोरोना वायरस ने अपना शिकार बनाया जिनमें वुहान शहर शामिल हैं क्योंकि दक्षिणी चीन के बाजारों में काफी मात्रा में समुन्द्री जीव मिलते हैं जिसकी वजह से ये वायरस सरलता से लोगो के भीतर अपना घर बनाने में सफल हुआ। अन्त हम कह सकते हैं कि, कोरोना वायरस की आधिकारीक शुरुआत यहीं से हुई।

अब तक कितना फैस चुका हैं कोरोना वायरस ?

हमारे लिए ये जानना बेहद जरुरी हैं कि, अब तक कितना फैल चुका हैं कोरोना वायरस ? इसका अंदाजा हम इसी बात से लगा सकते हैं कि, चीन से फैले इस वायरस ने भारत समेत दुनिया के कई देशों में खौफ का आंतक मचा रखा हैं।

यह वायरस भारत, अमेरिका, तिब्बत, थाईलैंड, जापान और मंगोलिया के लोगो को अपनी चपेट में ले रहा हैं। इस खतरनाक वायरस की वजह से चीन में 80 लोगों की मौत हो चुकी हैं और 2,744 लोगो की पुष्टि संक्रमित मरीजों के तौर पर हुई हैं CNN की रिपोर्ट के मुताबिक इनमें से 461 मरीजो की हालत बेहद संवेदनशील हैं।

क्या भारत में दस्तक दे दी हैं कोरोना वायरस ने ?

आपको ये जानकर परेशान या फिर किसी भी तरह की घबराहट में आने की जरुरत नहीं हैं कि, कोरोना ने भारत में दस्तक दे दी हैं और ना केवल दस्तक दी हैं बल्कि भारत में कदम रख चुका हैं परन्तु आपको इससे बिलकुल भी घबराने या फिर परेशान होने की जरुरत नहीं हैं क्योंकि भारत सरकार ने अपने नागरीकों को इस वायरस से बचाने की शुरआत एक आंदोलन की तरह कर दी हैं बस आपको अपने स्तर कुछ सचेत रहना हैं।

मुम्बई के बाद राजस्थान और बिहार में भी कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी हैं क्योंकि बिहार में इस वायरस से संक्रमित मरीज के पुष्टि की जा चुकी हैं।

भारत में, कोरोना संक्रमितो की संख्या 292 को पार कर चुकी हैं और भारत में सर्वाधिक मामले महाराष्ट्र में देखने को मिले हैं।

भारत सरकार लगातार हमारी सुरक्षा के लिए हर संभव कदम उठा रही हैं इसलिए हमें भी अपनी सरकार का सहयोग करना चाहिए।

किस तरह से फैलता हैं ये वायरस ?

कोरोना वायरस के फैलने की गति बेहद तेज हैं क्योंकि इसकी फैलने की पूरी प्रक्रिया बेहद सामान्य और सरल हैं क्योंकि कोरोना वायरस सिर्फ खासीं और छींक के द्धारा लोगो में फैल सकती हैं और साथ ही साथ ये लार के जरीए निकट संपर्क अर्थात् चुम्बन या फिर इस्तेमाल किये हुए बर्तनों से भी फैल सकता हैं। इसके संक्रमण की प्रक्रिया बेहद आम और सामान्य हैं इसलिए इसे संक्रमित होने की संभावना भी काफी अधिक हैं।

संक्रमित पाये जाने पर भागे नहीं-

हिंदी सरकारी योजना आपसे ये निवदेन करता हैं कि, यदि आप इस वायरस से संक्रमित पाये जाते हैं और आपको अस्पताल में रखा जाता हैं तो भूलकर भी वहां से ना भागे क्योंकि यदि आप वहां से भागकर लोगो के बीच आते हैं तो आप अपने साथ-साथ कई के जीवन को खत्म कर रहे हैं औऱ यदि आप संक्रमित हैं तो छुपे नहीं बल्कि खुद अस्पताल जाईए और जितना हो सके डॉक्टरों का सहयोग किजिए।

अस्पताल से भागिए और छुपिये बिलकुल नहीं क्योंकि यदि आप ऐसा करते हैं तो हो सकता हैं आपके द्धारा ही आपके कई रिश्तेदारों को ये वायरस अपने चपेट में ले ले और आपको पता भी नहीं चलेगा।

Updated: April 16, 2020 — 5:42 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *