{Form} Vidhva Sahay Pension Yojana 2020 Gujarat વિધવા સહાય યોજના ફોર્મ

Vidhva Sahay Pension Yojana की पृष्ठभूमि-

गुजरात सरकार द्धारा उठाये गये इस कदम का इंतजार ना जाने कितने वर्षों से गुजरात की विधवा महिलाएं कर रही थी क्योंकि समाज में उनके अस्तित्व को लेकर एक तरह की आंशका-सी उनके भीतर घर कर गई थी परन्तु गुजरात सरकार ने समय रहते उनके अस्तित्व को सुरक्षित करने का उपाय ढूंढ निकाला हैं जो कि, ’’ विधवा सहाय पेंशन योजना 2020 ’’ के नाम से जानी जाती हैं।

स्त्री का जीवन-

शायद ही कोई इस दुनिया मे ऐसा हो जो स्त्री के जीवन से परिचित ना हो। स्त्री का जीवन अर्थात् त्याग, तपस्या और संघर्ष का जीवन हैं या फिर इन तीनों शब्दों को आप स्त्री जीवन के पर्यायवाची के तौर पर प्रयोग कर सकते हैं।

स्त्री के जीवन के संबंध में एक लेखिका,’’ बेट्टी फ्रिडमेन’’ ने अपनी पुस्तक, ’’ The Second Sex ’’ में लिखा हैं कि, ’’ औरत पैदा नहीं होती बल्कि बनाई जाती हैं।’’ उनके इस कथन का सीधा का तात्पर्य यही हैं कि, पृथ्वी पर सबसे ज्यादा संघर्षमय अगर किसी का हैं तो वो निसंदेह एक स्त्री का हैं।

Vidhva Sahay Pension Yojana 2020

स्त्री का जीवन ऊपर से विधवा का अतिरिक्त जीवन-

स्त्री का जीवन ही इतना संघर्षमय होता हैं कि, हम कल्पना तक नहीं कर सकते हैं। एक स्त्री ही स्त्री जीवन के संघर्ष को समझ सकती हैं और महसूस कर सकती हैं।

एक स्त्री को दुर्भाग्यवश विधवा नामक एक अतिरिक्त जीवन का निर्वाह करना पड़ता हैं और ये विधवा नामक अतिरिक्त जीवन, स्त्री जीवन से कई गुना ज्यादा कष्टदायक और पीड़ादायक सिद्ध होता हैं इसमें कोई संदेह नही हैं।

Gujarat NAMO E -Tab Scheme

विधवा जीवन की कुछ मूलभूत विशेषताएं-

                                विधवा जीवन की कुछ मूलभूत विशेषताओं पर हम इस तरह प्रकाश डाल रहे हैं जिनके लिए हमने कुछ बिंदुओं का सहारा लिया है जो कि, इस प्रकार हैं-

  1. विधवा का जीवन अर्थात् तिरस्कार का जीवन,
  2. विधवा का जीवन अर्थात् मनहूसियत का जीवन
  3. विधवा का जीवन अर्थात् स्त्री की सभी इच्छाओं का अन्त,
  4. विधवा का जीवन अर्थात् स्त्री की तमाम स्वतंत्रता का अन्त,
  5. विधवा का जीवन अर्थात् घर की चार-दिवारी में एक कैदी का जीवन,
  6. विधवा का जीवन अर्थात् समाज से बहिस्कृत का जीवन,
  7. विधवा का जीवन अर्थात् अस्तित्वहीनता का जीवन।
  8. विधवा का जीवन अर्थात् लाचारी, बेबसी और मोहताज का जीवन।
  9. विधवा का जीवन अर्थात् घरवालों की हिंसा झेलने का जीवन।

अन्त हमने कुछ इस तरह की बिंदुओं का सहारा लिया जिससे आपको ये समझने में सरलता हो कि, एक स्त्री का जीवन किस तरह से बदल जाता हैं जब उसका पर्दापण होता हैं विधवा जीवन में, उम्मीद हैं आप समझ गये होंगे।

विधवा सशक्तिकरण की दिशा में उठाया गया कदम-

उपरोक्त विशेषताओं के या बिंदुओं का विधवा जीवन से निवारण के लिए ही गुजरात सरकार द्धारा उठाया गया कदम हैं,’विधवा सहाय पेंशन योजना 2020 ’’। इस योजना के तहत सरकार द्धारा हमारी विधवा बहनों के सशक्तिकरण के लिए उन्हें आत्मनिर्भरता प्रदान करना हैं, उन्हें आत्मसम्मान और गौरव का जीवन प्रदान करना हैं, इसी उद्धेश्य से इस योजना को लाया गया हैं ताकि हमारी विधवा बहनों को अपने अस्तित्व के बारे में सोचना ना पड़े और वो भी एक आम स्त्री जीवन जी सके।

आईए जानते हैं कि, क्या हैं विधवा सहाय योजना-

गुजरात सरकार द्धारा उठाये गये इस कदम का सीधा-सा अर्थ हैं और वो अर्थ हैं , “विधवा सशक्तिकरण’’। इसके लिए सरकार द्धारा हमारी विधवा बहनों को मासिक तौर पर पेंशन मुहैया करायी जाऐगी ताकि वो एक आत्मनिर्भर और स्वाभिमानपूर्ण जीवन जी सके।

साल 2019 की पेंशन का भुगतान सरकार द्धारा सीधा-हमारी विधवा बहनों के बैंक खातो में डी.बी.टी के माध्यम से कर दिया गया हैं।

[Form] Vahali Dikri Yojana Gujarat 2020-

योजना के कुछ आकर्षक बिंदु

इस योजना के कुछ आकर्षक बिंदु हैं जिसने इस योजना की तरफ हमारा ध्यान खींचा, इस प्रकार हैं-

  1. पूरी तरह से सरकार द्धारा पोषित योजना हैं,
  2. हमारी विधवा बहनों को पेंशन मासिक तौर पर मुहैया करायी जाएगी,
  3. उनके अस्तित्व और आजीविका के लिए नये दरवाजों को खोलने का प्रयास किया गया हैं इस योजना के द्धारा,
  4. बिचौलियो और रिश्वतखोरो को समाप्त करने के लिए ऑनलाईन द्धारा आवेदन स्वीकार किये जाऐंगे।

अन्त में, ये कुछ खास बिंदु थे जिन्होंने हमारा ध्यान इस योजना तरफ खींचा।

किन दस्तावेजों और मानदण्डो के आधार पर तय होगी आपकी पात्रता-

                                                     आईए जानते हैं कि, किन दस्तावेजों औऱ मानदण्डो के आधार पर तय होगी हमारी विधवा बहनों की पात्रता, इस योजना के तहत-

  1. राज्य की मूल निवासी होनी चाहिए,
  2. 18 से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए आयु,
  3. अनुबंध 1/86 के तहत किया जाऐगा आवेदन,
  4. आठवी परिशिष्ट के अनुसार होगा शपथ पत्र,
  5. अनुबंध 3/86 के तहत आयु प्रमाण पत्र होना चाहिए,
  6. परिशिष्ट 4/86 के तहत विधवा प्रमाण पत्र होना चाहिए,
  7. पति की मृत्यु का प्रमाण पत्र विधवा बहन के पास होना चाहिए,
  8. एक रिपोर्ट जिस पर पटवारी के दस्तख्त हो आदि।

इन उपरोक्त मानदण्डो और दस्तावेजों के आधार पर हमारी विधवा बहने इस योनजा का लाभ उठा सकती हैं।

{Apply Online} Ek Parivar Ek Naukri Yojana 2020

किस तरह की होगी चयन प्रक्रिया-

                        आईए अब देखते हैं कि, उपरोक्त मानदण्डो को पूरा करने के बाद किस तरह की रहने वाली हैं चयन प्रक्रिया।

विधवा सहाय योजना (Vidhva Sahay Yojna Gujarat 2020) आवेदन फॉर्म को क्षेत्रीय कार्यालय में जमा करने के बाद, इसे सत्यापित किया जाएगा। संबंधित विभाग से अनुमोदन के बाद, आपको एक लाभार्थी के रूप में चुना जाएगा और मासिक आधार पर पेंशन राशि आपके बैंक खाते में स्थानांतरित की जाएगी।

कैसे कर सकते हैं योजना में अपना पंजीकरण-

                                 विधवा सशक्तिकरण की दिशा में उठाये इस कदम के लिए इस तरह से आप अपना पंजीकरण या आवेदन कर सकते हैं-

राज्य की विधवाएं जो विधवा सहायता योजना के लिए आवेदन या पंजीकरण करना चाहती हैं उन्हें सबसे पहले गुजरात सामाजिक सुरक्षा विभाग की आधिकारिक वेबसाइट sje.gujarat.gov.in में जाके आवेदन फॉर्म को डाउनलोड करना होगा। या फिर नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके सीधे एप्लीकेशन फॉर्म को डाउनलोड करें। इसके बाद आपको इन चरणों को करना होगा पूरा, जो कि, इस प्रकार हैं-

  1. अब सभी आवश्यक विवरणों के साथ इस आवेदन फॉर्म को भरें।
  2. इसके साथ ही सभी जरुरी दस्तावेजों (जैसे ऊपर बताया गया है) को संलग्न करें।
  3. अंत में इस आवेदन फॉर्म को सामाजिक सुरक्षा कार्यालय में जमा करें।
  4. इसके बाद, गुजरात सामाजिक सुरक्षा विभाग से स्वीकृति प्रमाणपत्र प्राप्त करें।

अन्त उपरोक्त चरणों की पूर्ति के बाद आप सरलता से इस योजना का भाग बन सकती हैं और अपने विधवा जीवन को आर्थिक और सामाजित तौर पर मजबूत कर सकते हैं।

Check More Latest Schemes in India 2020

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *