उत्तर प्रदेश कुक्कुट मुर्गी पालन लोन योजना 2021 - ऑनलाइन पंजीकरण - Sarkari Yojana 2023 | सरकारी योजना 2023

उत्तर प्रदेश कुक्कुट मुर्गी पालन लोन योजना 2021 – ऑनलाइन पंजीकरण

UP कुक्कुट मुर्गी पालन लोन योजना 2021

मुर्गी पालन एक स्व-रोजागर है और इसी स्व-रोजगार को प्रेरित व प्रोत्साहित करने के लिए यू.पी सरकार ने, राज्य स्तर पर UP Kukut Murgi Palan Yojana 2021 को आधिकारीक तौर पर लागू कर दिया है जिसके तहत हमारे बेरोगजार युवा व भाई-बहन मुर्गीपालन करके ना केवल स्व-रोजगार कर सकते हैं बल्कि अपने सामाजिक-आर्थिक पछड़ेपन को समाप्त भी कर सकते हैं।

यू.पी कुक्कुट मुर्गी पालन योजना 2021 के तहत हमारे सभी आवेदक 10 से लेकर 30 हजार पक्षियों की व्यापारिक यूनिट की स्थापना कर सकते हैं जिसकी कुल लागत लगभग 1.60 लाख रुपय होगी जिसमें से 54 लाख की राशि आवेदको को वहन करनी होगी और बाकी राशि संबंधित बैंक द्धारा कर्ज के तौर पर प्रदान की जायेगी ताकि हमारे युवा इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकें और योजना की अधिक जानकारी के लिए टॉल फ्री नंबर – 1800 180 5141 पर भी सम्पर्क कर सकते हैं।

अंत, ये योजना ना केवल आपको रोजगार दिलवायेगी बल्कि आपके माध्यम से अन्य बेरोजगार लोगो को भी रोजगार की प्राप्ति होगी जैसे कि, योजना के अंतर्गत कुल 78,000 लोगो को इस योजना के तहत रोजगार प्राप्त हुआ है। राज्य के सभी युवाओं को रोजगार मिलें इसके लिए हम, इसलेख में, आपको up govt poultry scheme 2020 व उत्तर प्रदेश कुक्कुट मुर्गी पालन योजना 2021 – पूरी आवेदन प्रक्रिया क्या हैं? की जानकारी विस्तार से प्रदान करेंगे ताकि हमारे सभी आवेदक, इस योजना में भारी मात्रा में आवेदन करके योजना का लाभ प्राप्त कर सकें।

योजना की पूरी जानकारी

उत्तर प्रदेश सरकार द्धारा हमारे वे  सभी युवा व अन्य लोग जो मुर्गीपालन का व्यवसाय शुरु करना चाहते हैं उनके लिए सरकार ने इस योजना का शुभारम्भ किया हैं ताकि वे इस योजना का लाभ लेकर अपना खुद का व्यवसाय शुरु कर सकें और साथ ही मुर्गीपालन की सहायता से अन्य लोगो को भी रोजगार प्रदान कर सकें क्योंकि इस योजना से अभी तक 78 हजार लोगो को रोजगार औऱ स्वरोजगार मिला हैं।

इस योजना के तहत सरकार  द्धारा आवेदनकर्ता को सस्ती दरो पर कर्ज मुहैया करवाया जायेगा ताकि हमारे यहां मुर्गीपालन का विकास हो सकें और ही राज्य में मुर्गी से जुडे वस्तुओ की समुचित पूर्ति हो सकें।

कुक्कुट पालन अनुदान विकास नीति- ब्लू प्रिंट

इस योजना के तहत कुक्कुट पालक 30 हजार पक्षियो की व्यापारिक यूनिट व 10 हजार पक्षियो की व्यापारिक यूनिट स्थापित कर सकता हैं। योजना के तहत 30 हजार पक्षियो कि व्यापारिक यूनिट की स्थापना के लिए आवेदनकर्ता को 1.60 करोड रुपय की लागत का सामना करना होगा, जिसमें लाभार्थी को 54 लाख रुपये और 1.06 करोड रुपय का कर्ज बैंक इस योजना के तहत पास करेगा ताकि आवेदक सरलता से अपना व्यवसाय शुरु कर सकें औऱ दूसरो को भी रोजगार दे सकें।

वहीं 10 हजार पक्षियो की व्यापारिक यूनिट की स्थापना करने पर आवेदक को 70 लाख रूपये की लागत का सामना करना होगा जिसमें 21 लाख रु का लाभार्थी को देना होगा और बाकी 49 लाख रुपयो का भुगतान बैंक कर्ज के माध्यम से करेगा।

Read: मध्य प्रदेश शहरी पथ व्यवसायी उत्थान योजना – छोटे को मिलेंगे व्यवसायी 10 हज़ार रुपए

योजना में कौन-कौन कर सकता हैं आवेदन?

योजना को सर्वव्यापक बनाने के लिए इस योजना कि विशेषता हैं कि, इस योजना में कोई भी आवेदन कर सकता हैं जैसे –  छोटे से लेकर बड़े किसान भाई, हमारे बेरोजगार युवा आदि पशु चिकित्साधिकारी के कार्यालय में जाकर आवेदन कर सकते हैं। 2022 तक किसानो की आयु दुगुनी करने के संबंध में ये एक बड़ा कदम हैं सरकार का।

मुर्गीफॉर्म खोलने के लिए जरुरी चीजो की सूची

यू.पी सरकार ने मुर्गीफॉर्म खोलने के लिए भी कुछ जरुरी चीजो की सूची जारी की हैं जो कि, इस प्रकार हैं-

  1. मुर्गीपालन के लिए योजनानुसार घर और दाना-पानी के लिए बर्तनो की व्यवस्था,
  2. उन्नत और उत्कृष्ट नस्ल के चूजो व मुर्गियो की व्यवरस्था,
  3. अंडा देने वाला बक्सा और रोशनी का प्रबंध,
  4. हाट-बाजार मुर्गीफॉर्म के करीब होना चाहिए आदि।

उपरोक्त चीजो की पूर्ति के बाद ही आपको इस योजना के तहत लाभ प्रदान किया जायेगा।

Read: हरियाणा उद्योग मेमोरेंडम पोर्टल 2020

मुर्गीपालन के लिए बनाये जाने वाले घरो की संरचना से संबंधित दिशा-निर्देश

उत्तर प्रदेश की सरकार ने, मुर्गीपालन के लिए बनाये जाने वाले घरो की सरंचना के संबंध में जो दिशा-निर्देश जारी किये हैं उनकी सूची इस प्रकार हैं-

  • घर 10 इंच ऊंची सतह पर बनाना होगा ताकि बारिश में पानी घर में ना घुस पायें,
  • अधिक धूप वाली, अधिक ठंडी या अधिक गीली रहने वाली जगह पर घर नहीं होना चाहिए,
  • घर को ऊपर से ढकने के लिए घास-फूस, पुवाल, ताड के पत्ते और खपड़ो का प्रयोग करना चाहिए,
  • जहां तक हो सके घर को पक्का बनाईए,
  • घर में सांप व बिल्ली-चूहो का बिल नहीं होना चाहिए,
  • ये घर चारो तरफ से हवादार होनी चाहिए और मजबूत होनी चाहिए आदि।

उपरोक्त दिशा-निर्देशो के अनुसार ही मुर्गीपालन के लिए घरो का निर्माण करना होगा तभी आपको इस योजना का लाभ मिलेगा।

योजना के तहत मुर्गियो के संतुलित आहार के लिए जारी ब्लू-प्रिंट

इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश की सरकार द्धारा मुर्गियो के संतुलित आहार के लिए जारी ब्लू-प्रिंट इस प्रकार हैं-

  1. पर्याप्त मात्रा में पानी, शर्करा, चिकनाई, प्रोटिन, खनिज पदार्थ व विटामिन्स की पूरी मात्रा ताकि मुर्गियो के स्वास्थ्य और उत्पादन क्षमता को बनाये रखा जा सकें,
  2. चूजो के लिए साफ पानी का प्रबंध हमेशा रहना चाहिए,
  3. मुर्गीपालन के लिए जो आहार हैं उसका मिश्रण आप घर में भी तैयार कर सकते हैं या फिर बाजार से भी खरीद सकते हैं,
  4. चूजो को पहली खुराक अंडे से निकलने के बाद 48 घंटो में दी जानी चाहिए आदि।

उपरोक्त ब्लू-प्रिंट द्धारा आप अपनी मुर्गियो के स्वास्थ्य औऱ उत्पादन क्षमता को बढ़ा सकते हैं।

योजना के तहत मांगी जाने वाली दस्तावेजो और पात्रताओं की मिश्रित सूची

हम अपने इस लेख में आपको इस योजना के तहत मांगी जाने वाली दस्तावेजो औऱ पात्रताओँ की मिश्रित सूची प्रदान कर रहे हैं जो कि, इस प्रकार हैं-

सभी जरुरी दस्तावेजो की सूची

योजना के तहत मांगी जाने वाली दस्तावेजो की सूची इस प्रकार हैं-

  • आवेदनकर्ता का पहचान पत्र, आधार कार्ड और पैन कार्ड,
  • आवेदनकर्ता का स्थायी प्रमाण पत्र,
  • आवेदनकर्ता के बैंक खाते का पूरा विवरण,
  • आवेदनकर्ता की ताजा हाल ही की तस्वीर व
  • आवेदनकर्ता की पूरी योजना का ब्लू-प्रिंट आदि।

Read: {Form} पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना 2021

योजना के तहत पात्रताओं की सूची

इस योजना के लिए जिन पात्रताओं को रखा गया हैं उनकी सूची इस प्रकार हैं-

  • योजना में आवेदन करने वाला आवेदनकर्ता उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए,
  • आवेदनकर्ता के पास स्थायी प्रमाण पत्र होना चाहिए,
  • आवेदनकर्ता के पास एक सक्रिय बैंक खाता होना चाहिए,
  • बैंक खाता आधार कार्ड से लिंक होना चाहिए,
  • योजना का लाभ लेने के लिए आवेदनकर्ता के पास 1 से लेकर 3 एकड़ तक की अपनी भूमि होनी चाहिए व,
  • भूमि के असली कागजात होने चाहिए आदि।

उपरोक्त दस्तावेजो औऱ पात्रताओको पूरा करने के बाद आप सरलता से इस योजना का लाभ ले सकते हैं और अपने व्यवसाय को बढ़ा कर अधिक आमदनी प्राप्त कर सकते हैं।

योजना के तहत जारी हेल्पलाइन नंबर, जिनकी ले सकते हैं मदद

उत्तर प्रदेश की सरकार ने, इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए कुछ हेल्पलाइन नंबर जारी किये हैं जिनकी मदद से इस योजना में शामिल लोग योजना से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान या फिर कोई भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। योजना के तहत जारी हेल्पलाइन नंबर इस प्रकार हैं –

  • योजना के तहत जारी किया गया नि-शुल्क नंबर हैं – 1800 180 5141,
  • पूरा पता- ऐनिमल हसबंडरी डिपार्टमेंट लखनऊ, उत्तर प्रदेश
  • सम्पर्क करने के लिए ई-मेल आई.डी – mailto:ahrazqidwai@yahoo.com
  • vks56@yahoo.com आदि।

उपरोक्त सम्पर्क नंबरो पर सम्पर्क करके आप इस योजना की पूरी जानकारी और यदि समस्या  हैं तो इसका समाधान पा सकते हैं।

योजना से जुड़े आपके सवाल और हमारे जबाव

इस योजना से संबंधित कई तरह के सवाल हमें आपकी तरफ से मिलते रहे हैं जिनका हमने इस प्रकार जबाव दिया हैं-

सवाल –  इस योजना का लाभ किसे मिलेगा?

जबाव –  इस योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के सभी मुर्गीपालको को और मुर्गीपालन शुरु करने वाले सभी किसानो व युवाओ को मिलेगा।

सवाल –  इस योजना के तहत हमें क्या लाभ मिलेगा ?

जबाव –  इस योजना के तहत हमें कुछ अपनी पूंजी लगानी होगी औऱ कुछ पूंजी बैंक देगी जिससे हम अपना स्वरोजागर खडा कर पायेगे बल्कि दूसरो को भी रोजगार दे पायेगे।

सवाल –  इस योजना के तहत किन दस्तावेजो व योग्यताओ को पूरा करना होगा ?

जबाव –  इस योजना के तहत सभी आवेदको को योजनानुसार ही सभी दस्तावेजो और तय योग्यताओं क पूरा करना होगा तभी उन्हें इस योजना का लाभ मिलेगा।

सवाल –  इस योजना का उद्धेश्य क्या हैं ?

जबाव –  इस योजना का मौलिक लक्ष्य हैं स्वरोजगार को बढावा देना, अंडा उत्पादन को बढ़ावा देना औऱ बेरोजगार युवाओ व किसानो की आय को दुगुनी करके आत्मनिर्भर बनाना।

सवाल –  इस योजना में सरकार कितना मदद करेगी ?

जबाव –  इस योजना में सरकार आपके द्धारा खोले जाने वाल मुर्गीपालन के लिए आने वाली कुल लागत का आधा हिस्सा बैंक कर्ज के माध्यम से भरेगी।

सवाल –  योजना का क्या प्रभाव होगा ?

जबाव –  इस योजना का बेहद व्यापक प्रभाव होगा क्योकि इससे अंडा उत्पादन, स्वरोजगार को बढावा और आत्मनिर्भर किसान की धारणा साकार होगी।

इसे भी पढ़े..

Leave a Comment