{Form} UP Internship Scheme 2020 | उत्तर प्रदेश इंटर्नशिप योजना आवेदन फॉर्म

{Form} UP Internship Scheme 2021 | उत्तर प्रदेश इंटर्नशिप योजना आवेदन फॉर्म

UP Internship Scheme 2021

हम अपने इस लेख के द्धारा आपको और खास कर हमारे विद्यार्थियों को ये बताना चाहते हैं कि, उत्तर प्रदेश की सरकार लगाता अपने मेहनती छात्रो के लिए कार्य कर रही हैं और उसी का परिणाम हैं ये ’’ उत्तर प्रदेश इंटर्नशिप योजना 2021’’।

योगी सरकार की बड़ी घोषणा-

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अपने छात्रों के औऱ उनकी शिक्षा के संबंध में एक बड़ी घोषणा की हैं जिसके तहत ’’ उत्तर प्रदेश इंटर्नशिप योनजा ’’ का शुभारम्भ किया गया हैं। इस योजना का मूल उद्धेश्य उच्च शिक्षा को सुलभ बनाना हैं और उच्च शिक्षा में आने वाली बाधा को दूर करना हैं।

विद्यार्थियों में हैं खुशी का माहौल-

इस योजना की घोषणा के बाद उत्तर प्रदेश के छात्रों में खुशी का माहौल बना हुआ हैं और उनके भीतर अपनी शिक्षा को लेकर एक नई ऊर्जा का संचार हुआ हैं। साथ ही इस योजना के द्धारा उनकी आर्थिक तंगी भी होगी दूर और वे आर्थिक तनाव का शिकान ना बनते हुए पूरी कर सकेंगे अपनी शिक्षा।

छात्रों का आर्थिक सशक्तिकरण-

इस योजना के द्धारा उत्तर प्रदेश के छात्रों का आर्थिक सशक्तिकरण होगा जिससे उत्तर प्रदेश के तमाम छात्रो का भविष्य उज्जवल होगा और उनके भविष्य पर ही हमारा भविष्य भी तैयार होगा।

इस योजना के माध्यम से हमारे लाखों छात्रो को आर्थिक कारणों से अपनी शिक्षा नहीं छोड़नी पड़ेगी और ना ही उन्हें किसी भी तरह अन्य रुकावट का सामना करना होगा।

Read: {आवेदन} उत्तर प्रदेश विकलांग पेंशन योजना 2021

क्या हैं योजना का दायरा-

जब हम इस योजना के दायरे की बात करते हैं तो हम पाते हैं कि, इस योजना का दायरा बेहद व्यापक हैं जिसके तहत 10वीं,12वीं और स्नातक स्तर के विद्यार्थियों को किया गया हैं शामिल।

शिक्षा के इसी स्तर पर कई छात्र अपनी शिक्षा को आर्थिक कारणों से छोड़ते हैं तो वही कुछ दूसरी कारणों से अपनी शिक्षा को त्याग देते हैं।

योजना की रूपरेखा –

इस योजना का सबसे प्रमुख लाभ यही हैं कि, इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश के कमजोर और आर्थिक तौर पर पिछड़े छात्रों का आर्थिक सशक्तिकरण होगा और उनकी शिक्षा में कोई आर्थिक दखल नही होगा।

इस योजना के तहत 10वीं,12वीं और स्नातक स्तर के छात्रों के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस योजना के तहत 6 माह या फिर 1 साल का प्रशिक्षण दिया जायेगा औऱ प्रशिक्षण  के दौरान ही उसे 25,000 रु की स्टिपेंड अर्थात् वेतन दी जायेगी।

इन 25,000 रु में से 1,500 रु केंद्र सरकार देगी और बाकी बचे 1,000 रु का वहन राज्य सरकार द्धारा किया जायेगा।

Read: आयुष्मान गोल्डन कार्ड कैसे बनवाएं

लाभार्थियों की संख्या-

इस योजना के तहत लाभार्थियो की संख्या 5 लाख के आकंड़े को भी पार कर सकती हैं अर्थात् इस योजना का लाभ छात्रों की एक बड़ी संख्या को मिलने वाला हैं अर्थात् छात्रो की एक बडी संख्या अपना भविष्य बना सकती हैं और देश के विकास में अपना योगदान भी दे सकती हैं।

इस तरह से करना होगा आवेदन-

हम अपने मेहनती छात्रो को ये बताना चाहते हैं कि, अभी इस योजना का शुभारम्भ नहीं किया गया हैं बल्कि इस योजना की रुपरेखा भर तय कि गई हैं पर सरकार की तरफ से लगातार कहा जा रहा हैं कि, इस योजना की शुरुआत बहुत जल्द हो सकती हैं। अन्य योजनाओं की तरह ही इस योजना के लिए भी ऑनलाईन माध्यम को ही अपनाया जायेगा।

हम अपने छात्रों से यही कहना चाहते हैं कि, बस वे इसी तरह से मेहनत करते रहे ये उनका काम हैं और इस संबंध में अपने छात्रों को लगातार सूचना देते रहना हमारा काम हैं और हम इस दायित्व का ईमानदारी पूर्वक निर्वाह करेंगे।

Check More Links You Would Like

Leave a Comment