घर में दिल कैसे लगाए - मन परेशान हो तो अपनाएं यह Best उपाय

घर में दिल कैसे लगाए – मन परेशान हो तो अपनाएं यह Best उपाय

Ghar Mein Dil Kaise Lagaen

Ghar Mein Dil Kaise Lagaen | Ghar me man kaise lagaye in hindi | घर में दिल कैसे लगाए

आमतौर पर माता – पिता व पत्नी समाज की यह समाज रहती है कि, उनके पति महोदय व बच्चे घर में कम और बाहर अधिक रहते है जिससे पारिवारीक समरसता की कमी होती है औऱ परिवार टूटने लगते है लेकिन हमारे किसी भी पाठक के साथ ऐसा ना हो इसे सुनिश्चित करने के लिए हम आपको इस आर्टिकल में विस्तार से बतायेगे कि, Ghar Mein Dil Kaise Lagaen?

पर केंद्रीत अपने इस आर्टिकल कम दद से हम आपको बता दे कि, जिन परिवारो के सदस्य चाहे वे पति हो, पत्नी हो, माता हो या फिर पिता हो घर से बाहर अधिक रहते है उन घर में आमतौर पर मन – मुटाव, चिढ़चिढापन, तनाव, अकेले रहने की आदत, चीजो को अपने तक सीमित रखने की आत औऱ भीतर ही भीतर घुटने की आदत देखने को मिलती है जो कि, पूरे परिवार के लिए व उसके भविष्य के लिए अत्यन्त घातक साबित होती है।

औऱ इसीलिए हम आपको इस आर्टिकल में विस्तार से बतायेगे कि, Ghar Mein Dil Kaise Lagaen ताकि आपके घर मे एक खुशहाल माहौल रहें और एक सुखद पारिवारीक जीवन जी सकें।

Ghar Main Dil Man Kaise Lagaye

घर से दूर या बाहर रहने के नकारात्मक प्रभाव क्या है?

घर से दूर या बाहर रहने के कई नकारात्मक प्रभाव होते है जैसे कि –

  1. परिवार मे अपनेपन की कमी आने लगती है,
  2. परिवार में सब अपने – अपने बारे में सोचने लगते है,
  3. सदस्यो में मन – मुटाव देखने के मिलता है,
  4. हर सदस्य, दूसरे सदस्य को संदेह की नजर से देखता है,
  5. हम खुद को अकेला महसूस करते है,
  6. हम, अपनी समस्या को खुलकर अपने परिवार वालो से शेयर नहीं करते है डर के मारे और
  7. परिवार, परिवार ना रह कर केवल कुछ लोगो का समूह बन जाता है जिसका कोई भविष्य नहीं होता है आदि।

अन्त, इस प्रकार हमने आपको विस्तार से घर से दूर व बाहर रहने के नकारात्मक प्रभावो के बारे में बताया।

इसे भी पढ़े: लाइफ इन्शुरन्स क्या है? जानिए पूरी जानकारी

Ghar Mein Dil Kaise Lagaen?

आइए अब हम अपने सभी पाठको को विस्तार से कुछ बिंदुओं की मदद से बताते है कि, Ghar Mein Dil Kaise Lagaen (घर में दिल कैसे लगाए)  जो कि, इस प्रकार से हैं –

परिवार के भविष्य के बारे में सोचे

कोई कुछ करें, मुझे क्या लेना – देना आदि की प्रवृत्ति हमें परिवार से दूर अकेलेपन की तरफ ले जाती है जिससे हमें बचना होगा और अपने परिवार के भविष्य के बारे में सोचना होगा ताकि हमारा पूरा परिवार एक खुशहाल और सुखद जीवन जीकर जीवन में सफलता प्राप्त कर सकें।

परिवार के सदस्यो के बारे में सोचे

कितना अच्छा लगता है जब परिवार के सभी सदस्य एक साथ मिलकर खाना, खाते है, फिल्म देखते है, सीरियल देखते है, कोई खेल खेलते है लेकिन जब हम परिवार से दूर कहीं बार रहते है तो परिवार के सद्सयो में साथ – साथ काम करने की आदत जाती रहती है जिसका परिणाम यह होता है कि, हर सदस्य केवल अपने तक सीमित हो जाता है और बिना चाहे भी स्वार्थी बन बैठता है इसीलिए हमें चाहिए कि, हम अपने परिवार के सदस्यो के बारे में सोचे ताकि एक अच्छा जीवन जी सकें।

अपने जीवन – साथी के बारे में सोचे

परिवार, केवल एक सदस्य से नहीं बल्कि आपसे औऱ आपकी पत्नी से शुरु होता है जो कि, आपके बच्चो तक बढ़ता है इसीलिए परिवार की जिम्मेदारी केवल आपकी पत्नी या फिर पति की नहीं है बल्कि एक साथ आम दोनो की है औऱ आप दोनो को ही एक दूसरे की सख्त जरुरत है ताकि परिवार रुपी इस गाड़ी को सभी समस्याओं से बचाते हुए अपने निर्धारित लक्ष्य तक लायें।

परिवार से दूर रहने का अर्थ है अपने जीवन साथी से दूर रहना जिसका आपके जीवन साथ पर क्या प्रभाव पड़ता है इसे शब्दो में कहना नामुमकिन है और इसीलिन हमारी आपसे विनती है कि, अपने जीवन साथी के बारे में सोचे और परिवार व घर में रहते हुए उनके एक सुखद जीवन जी सकें।

इसे भी पढ़े: 10 बातें घर-परिवार में खुशहाली रखने के लिए

माता – पिता के बारे मे सोचे

लगातार आपका घर से बाहर रहना आपके माता – पिता को क्या कष्ट देता है इसे तो केवल विधाता ही जान सकता है इसीलिए हमें चाहिए कि, अपना खाली समय अपने परिवार में माता – पिता के साथ माता – पिता की सेवा – सत्कार करते हुए बितायें ताकि ना केवल हम एक सुखद जीवन जी सकें बलकि जीवन की अन्तिम दहलीज पर आ चुके हमारे माता – पिता संतोष का जीवन जी सकें।

घर में दिल कैसे लगाए

घऱ के कामो मे मदद करें

आमतौर पर रविवार का दिन हम छुट्टी के तौर पर मनाते है और कही दोस्तो के साथ बाहर घूमने चले जाते है, फिल्म देखने चले जाते है या अन्य कुछ भी जो कि, किसी भी लिहाज से गलत नहीं  है लेकिन हमें चाहिए हम कुछ समय अपने घरवालो के साथ घर के कामो में लगायें ताकि हमारे घरवालो को अकेलापन ना महसूस हो और आप सभी एक स्वस्थ पारिवारीक सूत्र में बंध सकें आदि।

अन्त, इस प्रकार हमने आपको विस्तार से बताया कि, Ghar Mein Dil Kaise Lagaen ताकि आप उपरोक्त तरीको की मदद से अपने परिवार के साथ एक सुखद जीवन जी सकें।

घर / परिवार जीवन की पहली और सर्वोपरी जरुरत है और इसी पर हमारा भविष्य निर्भर करता है लेकिन हम घर से दूर भागते है या फिर किसी वजह से हमारा घर में दिल नहीं लगता है और इसीलिए घर से बाहर भाग रहे आपके दिल को घर में ही लगाने के लिए हमने आपको इस आर्टिकल में विस्तार से Ghar Mein Dil Kaise Lagaen के बारे में बताया ताकि आप एक सुखद घरेलू जीवन जी सकें।

इसे भी पढ़े: घर में सुख शांति के लिए क्या करना चाहिए 

Leave a Comment