"हर हाथ को काम मिले" अब हर प्रवासी कामगारों और श्रमिकों को मिलेगा रोजगार - जानिए पूरी जानकारी

“हर हाथ को काम मिले” अब हर प्रवासी कामगारों और श्रमिकों को मिलेगा रोजगार – जानिए पूरी जानकारी

Har Haath Ko Kaam Mile:

प्रवासी कामगार रोजगार योजना 2020 उत्तर प्रदेश | यूपी “हर हाथ को काम मिले” प्रवासी कामगारों व श्रमिक रोजगार योजना नीति | Yogi Pravasi Kamgar Rojgar Yojana Panjiyan 

11 लाख  प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने की मुहिम।

दूसरे राज्यों से उत्तर प्रदेश लौटे कामगारों और श्रमिकों को उद्योगों में रोजगार दिलाने के लिए बड़ी मुहिम शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में 11 लाख लोगों को रोजगार दिलाने के लिए प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को चार उद्योग संगठनों इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन, फिक्की, लघु उद्योग भारती, नरडेको के साथ करार किया मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में बाहर से वापस आ रहे श्रमिकों और कामगारों को उनकी दक्षता के अनुसार स्थानीय स्तर पर रोजगार देना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है इस संबंध में स्किल डेवलपमेंट राजस्व विभाग द्वारा उनकी स्किल मैपिंग की जा रही है कामगारों को प्रदेश में रोजगार देने के लिए लघु उद्योग का सबसे बड़ा साधन है सरकार सब को उनकी तक्षशिला के अनुसार रोजगार देने  को प्रतिबद्ध है।

‘प्रवासी आयोग’ रजिस्ट्रेशन: प्रवासियों के रोजगार के लिए आयोग 

प्रवासी कामगारों की जरूरत का पता लगाने के लिए चल रहा है सर्वे।

Har Haath Ko Kaam Mile

यूपी लौटे प्रवासियों और कामगारों को रोजगार दिलाने के प्रयास के तहत प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन, फिक्की, लघु उद्योग भारती नरडेको के साथ करार किया है। यह संगठन दक्षता के अनुसार कामगारों की विभिन्न उद्योगों में जरूरत का पता लगाने के लिए सर्वे करा रहे हैं। अभी हाल ही में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ‘कामगार/श्रमिक (सेवायोजन एवं रोजगार) कल्याण आयोग भी जारी किया था।

“हर हाथ को काम मिले” नीति पर काम कर रही सरकार  

मानदेय देने में पीछे नहीं रहे: इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस करार से 11 लाख कामगारों और श्रमिक को रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी कुरौना के खिलाफ जिस मजबूती से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर आप सभी ने कार्य किया इसके लिए वह हृदय से धन्यवाद देते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि 94% औद्योगिक इकाइयों में उत्पादन भले ही ना हुआ लेकिन मानदेय देने में पीछे नहीं है। उन्होंने कहा कि 75 हजार इकाइयों ने वेतन मानदेय के रूप में 17000 करोड रुपए दिए है
और साथ ही साथ उत्तर प्रदेश के लघु उद्योग विभाग ने प्रमुख सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार ने अबतक लाखो श्रमिकों की स्किल मैपिंग करा दी गयी है।

{पंजीकरण} श्रमिक रोजगार योजना रजिस्ट्रेशन

कब शुरू होंगे पर प्रवासी कामगारों और श्रमिकों को रोजगार दिलाने के रजिस्ट्रेशन

दोस्तों आपको बता दें यह प्रक्रिया बहुत तेजी से चल रही है अभी प्रदेश सरकार सभी प्रदेश से आए लोगों की कील मैपिंग कर रही है जैसे ही यह प्रक्रिया पूरी होगी, तुरंत के बाद इसकी ऑनलाइन पंजीकरण या ऑफलाइन पंजीकरण प्रक्रिया शुरू होगी  नीचे और भी बहुत सी ऐसी जानकारी है

नीचे और भी श्रमिक और कामगारों के लिए बहुत सी योजनाएं जारी है जिनका आप लाभ उठा सकते हैं

Leave a Comment