राजस्थान पालनहार योजना 2020 | ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | RAJ Palanhar Yojana

राजस्थान पालनहार योजना 2020-2021

राजस्थान पालनहार योजना 2020। rajasthan palanhar yojana 2020 ।Palanhar Form PDF। 2020 Palanhar Status 2020। Palanhar Yojana ke liye Documents।

   सभी अनाथ बच्चो व नवयुवको के बेहतर लालन-पालन व उच्च स्तरीय शिक्षा-दीक्षा को तय करने के लिए राजस्थान सरकार ने, बेहद कल्याणकारी योजना ’’ पालनहार योजना 2020, राजस्थान ’’ का शुभारम्भ कर दिया हैं जिसके तहत हमारे सभी लावारिश बच्चो व नवयुवको का बेहतर लालन-पालन किया जायेगा, उन्हें साफ-सुथरे कपडे प्रदान किये जायेंगे, संतुलित व पौष्टिक आहार प्रदान करते हुए उन्हे उच्च स्तरीय शिक्षा प्रदान की जायेगी ताकि वे अपने पैरो पर खडे हो सकें औऱ एक आत्मनिर्भर जीवन जीकर अपने उज्जवल भविष्य का निर्माण कर सकें औऱ इसी लक्ष्य की पूर्ति के लिए इस योजना के तहत 5 साल के बच्चो को 500 रुपयो की आर्थिक सहायता, 18 साल के सभी नवयुवको को 1,000-2,000 रुपयो की आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी ताकि ये आर्थिक तौर पर किसी के मोहताज ना बनें औऱ एक आत्मनिर्भर जीवन जी सकें। इसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए हम,आपको इस लेख में, rajasthan palanhar yojana 2020 व rajasthan palanhar yojana 2020 online registration की पूरी जानकारी देंगे, इसके लक्ष्यो व लाभो के बारे में बतायेगे, जरुरी दस्तावेजो व पात्रताओ के बारे में बतायेगे ताकि हमारे सभी आवेदक इस योजना में, भारी मात्रा में, आवेदन कर सकें और इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकें।

हम, अपने इस लेख के माध्यम से अपने सभी अनाथ बच्चो, नवयुवको और पाठको समेत सभी राजस्थानवासियो को rajasthan palanhar yojana 2020  पूरी जानकारी देंगे, इसके मौलिक लक्ष्यो व लाभो के बारे में बतायेगे, इसके लिए जरुरी दस्तावेजो और पात्रताओ के बारे में बताने के साथ ही साथ आपको इस योजना में, आवेदन करने पूरी प्रक्रिया के बारे में, विस्तार से बतायेगे ताकि हमारे ये सभी बच्चो व नवयुवक इस योजना में, आवेदन कर सकें औऱ इस योजना का अधिक से अधिक लाभ लेते हुए अपने उज्जवल भविष्य का निर्माण कर सकें।

योनजा पर हमारी एक नजर

इस योजना को हम राजस्थान सरकार की सबसे अधिक कल्याणकारीय योजना कह सकते हैं जिसके तहत राजस्थान राज्य के तमाम योग्य अनाथ बच्चो को राज्य सरकार सहारा देगी, उनका पालन-पोषण बेहतर हो इसकी व्यवस्था करेगी और इनकी आर्थिक जरुरतो की पूर्ति के लिए अनुदान  के तहत एक निश्चित राशि प्रदान करेगी ताकि इनकी हर जरुर पूरी हो सके और इनका बेहतर पालन-पोषण हो सके जिससे हमारे ये अनाथ बच्चे आत्मनिर्भर, आत्मसशक्त और एक जिम्मेदार शहरी बन सकें जो ना केवल अपना विकास करें बल्कि अपने राज्य का विकास करते हुए देश के विकास में भी योगदान दें।

योजना का नाम राजस्थान पालनहार योजना 2020।
योजना के पहलकर्ता राजस्थान सरकार।
योजना का मौलिक उद्धेश्य राजस्थान के सभी अनाथ बच्चो व नवयुवको का सामाजिक व आर्थिक कल्याण करते हुए उनके उज्जवल भविष्य का निर्माण करना।
योजना के लाभार्थी राजस्थान के सभी योग्य अनाथ बच्चे व नवयुवक।
योजना के केद्रीय बिंदु सभी अनाथ बच्चो का सशक्तिकरण करते हुए उन्हें बेहतर आज देते हुए उनके उज्जवल कल का निर्माण करना।
योजना में, आवेदन की स्थिति योजना में, ऑनलाइन आवेदन जारी हैं।
योजना से संबंधित सभी लिंक योजना के तहत जारी लिंक-

1.       योजना के तहत जारी आधिकारीक वेबसाइट का लिंक – https://sje.rajasthan.gov.in/schemes/Palanhar.html

2.       योजना के तहत आवेदन के लिए जारी आवेदन फॉर्म डाउनलोड करने का लिंक – https://www.hindisarkariyojana.in/wp-content/uploads/2020/08/Palanhar-Yojana-Online-Form-PDF.pdf

योजना के तहत दी जाने वाली आर्थिक सहायता राशि योजना के तहत दी जाने वाली आर्थिक सहायता राशि-

1.       5 साल की आयु के बच्चो के लिए 500 रु,

2.       18 साल की आयु के नवयुवको के लिए 1000 रु व

3.       18 साल के बाद 2000 रुपयो की प्रतिमाह आर्थिक सहायता।

अनाथ से अपराधी बनने की प्रक्रिया को रोकेगी ये योजना

हम सभी जानते हैं कि, हमारे देश में अनाथ बच्चो की क्या स्थिति हैं और उनका क्या भविष्य होता हैं क्योंकि इनकी कोई जरुरत पूरी नही होती और ना ही कोई मार्गदर्शन मिलता हैं कई बार इन्हें कोई समूह उटा लेता हैं औऱ इनके अंगो को काटकर इनसे सार्वजनिक जगहो पर भीख मंगवता हैं तो कई बार कुछ आपराधिक समूह इन्हें पैसो का लालच देकर इनसे इनसे अपराध करवाते हैं जैसे कि- चोरी करवाना, हत्या करवाना, पर्स व चैन आदी छिनवाना और कई बार अपहरण जैसे आपराधिक कार्यो को भी इनके द्धारा करवाया जाता हैं। इसलिए राजस्थान की सरकार ने फैसला लिया हैं कि, वे अपने राज्य के अनाथ बच्चो को अपराधी बनने से रोकेगी और उन्हें एक ईमानदार शहरी के तौर पर स्थापित करेगी जो ना केवल अपना विकास करेगा बल्कि अपने साथ-साथ राज्या का भी विकास करेगा।

पालनहार योजना 2020 – मौलिक लक्ष्य

हम, अपने सभी अनाथ बच्चो व नवयुवको को इस योजना के मौलिक लक्ष्यो के बारे में, बताना चाहते हैं जो कि, इस प्रकार से हैं-

  1. राज्य के सभी अनाथ बच्चो को उनके बेहतर पालन-पोषण के लिए और बेहतर जीवन-यापन के लिए पर्याप्त अवसर देना औऱ आर्थिक सहायता देना,
  2. राज्य के सभी अनाथ बच्चो व नवयुवको को आर्थिक अभाव के कारण अपराध की राह पर चलने से रोकना,
  3. इनके उच्च व बेहतर शिक्षा-दीक्षा की व्यवस्था करते हुए इनका शैक्षणिक सशक्तिकरण करना,
  4. इस योजना के तहत हमारे इन सभी बच्चो और नवयुवको को 18 साल के बाद 2000 रुपयो की प्रतिमाह आर्थिक सहायता देना ताकि इनकी दैनिक जरुरते पूरी हो सकें और ये एक संतुलित जीवन जीते हुए रोजगार की तलाश कर सकें और
  5. राजस्थान सरकार के द्धारा हमारे इन बच्चो का सतत व सर्वाधिक विकास किया जा सकें आदि।

उपरोक्त सभी मौलिक लक्ष्यो की पूर्ति इस योजना के तहत की जायेगी जिससे हमारे इन बच्चो का सर्वाधिक और सतत विकास होगा।

योनजा के तहत इन बच्चो को मिलेगा इस योजना का लाभ

योजना के तहत जिन बच्चो को लाभ मिलेगा उनकी पूरी सूची इस प्रकार से हैं –

  1. योजना के तहत अनाथ औऱ न्यायिक प्रक्रिया के तहत सजा प्राप्त माता-पिता के बच्चे को,
  2. योजना के तहत विधवा बहनो औऱ पुर्नविवाहित विधवा बहनो के बच्चो को,
  3. उन विधवा बहनो को जिन्हें विधवा पेंशन मिलती हैं औऱ जिनके तीन बच्चे हैं उनको,
  4. एड्स व कुष्ट रोग से पीडितो के बच्चो को व
  5. दिव्यांग व तलाकशुदा माता-पिता के बच्चो को इस योजना के तहत लाभ प्रदान किया जायेगा ताकि ये अपने पैरा पर खडे होकर अपने आप से अपना उज्जवल भविष्य बना सकें।

योजना के तहत दी जाने वाली अनुदान की रुपरेखा

योजना के तहत दी जाने वाली अनुदान की पूरी  रुपरेखा इस प्रकास से हैं-

  1. इस योजना के अनुसार हर अनाथ और योजना के लिए योग्य बच्चे को 5 वर्ष की आयु तक 500 रुपयो की आर्थिक राशि हर महिने दी जायेगी,
  2. इस राशि को 1,000 रुपयो में बदल दिया जायेगा जब बच्चे का दाखिला स्कूल में होने के बाद उसकी आयु 18 को पार कर जायेगी,
  3. बच्चो को उनकी अन्य जरुरतो की पूर्ति के लिए 2,000 रुपयो की अतिरिक्त राशि प्रतिमाह दी जायेगी ताकि इनकी हर आर्थिक जरुरत पूरी हो सकें और ये अपने कल का निर्माण बेहतर तरीके से कर सकें।

उपरोक्त बिंदुओ से इस योजना के कल्य़ाणकारी स्वरुप का इसके सर्वव्यापक चरित्र का पता चलता हैं जिससे हमारे सभी राजस्थान के अनाथ बच्चे इस योजना का लाभ लेकर अपने उज्जवल भविष्य की रुपरेखा को स्वयं से खीच सकेंगे।

इन कसौटियो पर तय होगी आपकी पात्रता

इस योजना के तहत लाभार्थी अनाथ बच्चो का चयन करने के लिए कुछ कसौटिया तय की गई हैं जिसके आधार पर उनकी पात्रता को तय किया जायेगा जो कि, इस प्रकार हैं –

  1. आवेदक राजस्थान का स्थायी निवासी होना चाहिए,
  2. आवेदक के सालाना पारिवारीक आय 1.20 लाख से अधिक नही होना चाहिए,
  3. इन अनाथ बच्चो को योजना के तहत 2 साल का होने पर आंगनबाडी और 6 साल का होने पर स्कूल भेजना बेहद अनिवार्य हैं आदि।

उपरोक्त कसौटियो पर आपकी पात्रता को तय करने के बाद ही आपको इस योजना के तहत लाभान्वित किया जायेगा।

योजना के तहत मांगी जाने वाली कागजातो की पूरी सूची

हम अपने सभी राजस्थानवासियो और पाठको को इन कागजातो के बारे में बताना चाहते हैं जिनकी सहायता से आप इस योजना में हमारे अनाथ बच्चो का आवेदन कर सकते हैं उनकी पूरी सूची इस प्रकार से हैं –

  1. योजना के तहत पालनहार का आधार कार्ड,
  2. अनाथ बच्चे का भामाशाह कार्ड व राशन कार्ड,
  3. योजना के तहत बच्चे का आधार कार्ड व पहचान पत्र,
  4. अनाथ बच्चे का आंगनबाडी में पंजीकरण का प्रमाण पत्र व मूल निवास प्रमाण पत्र,
  5. आवेदन करने वाले बच्चे के पास अपना एक सक्रिय मोबाइल नंबर व ताजा तस्वीर होनी चाहिए आदि।

उपरोक्त दस्तावेजो के आधार पर हम हमारे आवेदन करने वाले आवेदकगण इस योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं औऱ योजना का लाभ हमारे अनाथ बच्चो को दिलवाने में मदद सकते हैं।

योजना के तहत श्रेणियो के अनुसार होगी दस्तावेजो की मांग

इस योजना के तहत दस्तावेजो की एक लंबी सूची हैं जो कि आवेदन के समय आवेदनकर्ता से मांगी जाती हैं। इस योजना के तहत जिन श्रेणियो के तहत दस्तावेजो की मांग की जाती हैं उनकी सूची इस प्रकार से हैं –

  1. हमारे जो बच्चे अनाथ हैं उनसे, उनके माता-पिता की मृत्यु का प्रमाण पत्र,
  2. जि बच्चो के माता-पिता आजीवन कारावास या फिर मृत्युदंड की सजा पा चुके हैं उनसे, दंडादेश की प्रति,
  3. तीन बच्चो वाली हमारी विधवा बहनो से विधवा पेंशन भुगतान के आदेश की अनुप्रति,
  4. पुर्नविवाहित विधवा माता के बच्चो से पुर्नविवाह के प्रमाण पत्र की प्रति,
  5. गंभीर बिमारी से पीडित माता-पिता के बच्चो से ग्रीन कार्ड की प्रति,
  6. हमारी उन बहनो से तलाकशुदा प्रमाण पत्र की एक प्रति मांगी जायेगी जिनका तलाक हो गया हैं,
  7. हमारे कुष्ट रोग पीडितो से सक्षम बोर्ड द्धारा जारी चिकिस्ता प्रमाण पत्र आदि।

उपरोक्त दस्तावेजो की मांग अलग-अलग श्रेणियो के तहत की गई हैं ताकि इस योजना का लाभ समाज के हर वर्ग और श्रेणी को मिले।

इस कल्याणकारी योजना में, इस तरह से कर सकते हैं ऑनलाइन आवेदन

हमारे सभी राजस्थानवासी व हमारे सभी अनाथ बच्चे इस योजना के तहत इन चरणो को पूरा करते हुए अपना ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं या फिर अनाथ बच्चे बेहद छोटे हैं जिनका कोई आवेदन करने वाला नहीं है तो उनके लिए कोई  भी स्वंय सहायता समूह या कोई गैर सरकारी संगठन आवेदन कर सकता हैं। इन चरणो के तहत करना होगा ऑनलाइन आवेदन-

  1. इस योजना के तहत सबसे पहले आपको इसके लिए जारी आधिकारीक वेबसाइट पर जाना होगा जिसका लिंक हम आपकी सुविधा के लिए रख रहे हैं जो कि, इस प्रकार से हैं –http://sje.rajasthan.gov.in/schemes/Palanhar.html,
  2. इस लिंक पर आपको क्लिक करते हुए होम पेज पर जाना होगा,
  3. होम पेज पर जाने के बाद आपको राजस्थान पालनहार योजना के लिए जारी आवेदन फॉर्म का पी.डी.एफ डाउनलोड करना होगा,
  4. इसके बाद आपको इस आवेदन फॉर्म को सही-सही भरना होगा दस्तावेजो के अनुसार ताकि कही कोई गलती ना रह जाये,
  5. इसके बाद आपको इस योजना के तहत मांगी गई हर दस्तावेज की एक-एक प्रति को सलग्न करना होगा,
  6. इसके बाद आपको इस आवेदन फॉर्म को जमा करवाना होगा। यदि आप शहरी हैं तो आपको इसे विभागीय जिला अधिकारी के पास औऱ यदि आप ग्रामीँण हैं तो इसे आपको संबंधित विकास अधिकारी के पास या फिर ई-मित्र केयोस्क केंद्र में जमा करवाना होगा।

उपरोक्त आसान से चरणो को पूरा करने के बाद हमारे सभी अनाथ बच्चे इस योजना का लाभ ले पायेगे और योजना की मदद से अपने बेहतर कल का निर्माण भी कर पायेगे जिससे इनका भविष्य उज्जवल होगा।

FAQ’s

योजना को लेकल आपके Q. और हमारे Ans.

इस योजना को लेकर हमें आपके कई Q. मिले हैं जिनका हमने इस प्रकास से Ans. दिया हैं –

Q: इस योजना के तहत किन राज्यो को शामिल किया जायेगा ¿

Ans. – इस योजना के तहत केवल राजस्थान राज्य को ही शामिल किया जायेगा क्योकि इस योजना का शुभारम्भ राजस्थान सरकार द्धारा ही किया गया हैं।

Q; इस योजना का मौलिक लक्ष्य क्या है ¿

Ans. – इस योनजा का मौलिक लक्ष्य हैं अनाथ बच्चो को अपराधी बनने से रोक कर उन्हें एक जिम्मेदार शहरी बनाना, उनका बेहतर पालन-पोषण करना, बेहतर शिक्षा-दीक्षा करना और साथ ही आर्थिक सहायता देते हुए उन्हें आत्मनिर्भर और आत्मसशक्त बनाना इस योजना का मौलिक लक्ष्य हैं।

Q:  इस योजना के तहत किन कागजातो की जरुरत पडेगी¿

Ans. – योजना में आवेदन करने के लिए आपको योजनानुसार तय कागजातो की जरुरत पड़ेगी जिसके आधार पर आप इस योजना के तहत आवेदन कर पायेगे।

Q; योजना के तहत किन चरणो को और कैसे करना होगा आवेदन¿

Ans. – योजना के तहत आपको ऑनलाइन माध्यम आवेदन करना होगा औऱ योजना  के तहत तय चरणो को पूरा करते हुए अपनी आवेदन की प्रक्रिया को सम्पन्न करना होगा।

Q:  इस योजना के तहत कितनी राशी अनुदान के तहत मिलेगी¿

Ans. – इस योनजा के तहत हमारे सभी चयनित लाभार्थी अनाथ बच्चो को 2 साल की आयु पर 500 रुपय प्रतिमाह, 18 साल की आयु पर 1000 रुपय प्रतिमाह और इन बच्चो की अन्य जरुरतो पूरा करने के लिए 2000 रुपयो की अतिरिक्त सहायता व प्रोत्साहन राशि इन्हें दी जायेगी ताकि इनका समुचित विकास हो सकें व ये अपने पैरो पर खडे होकर एक आत्मनिर्भर जीवन जी सकें।

Leave a Comment